Friday, October 17, 2008

176 वां दिन

लीलावती अस्पताल # 1101, मुंबई अक्टूबर 11 - 16/ अक्टूबर 16, 2008 10:22 बजे लिखा गया

ये दिन अस्पताल में बीते। जांच और उपचार और चिंता और अनसोई रातो और दर्द के बीच ... और भी बहुत कुछ ...
लेकिन अब नर्स आश्चर्य करती है कि मैं स्क्रीन के सामने कितना समय बिताता हूँ और प्लग बाहर निकाल रही है। मैं इन दिनों के बारे में ज़रूर लिखूगा। शायद बाद में जब मैं अपने स्वास्थ्य लाभ के लिए एकांत में रहूँ।

आप के लिए मेरा प्यार अब भी वैसा ही दृण और मजबूत है।

अमिताभ बच्चन
http://blogs.bigadda.com/ab/2008/10/16/day-176/

2 comments:

Anjali said...

Hum sab aapko sach mai bahut pyaar karte hai aapke dukh se hamari aankhein bhi nam hoti hai..... We love you so much..... plz Sir Take care your self..... aapki lambi umar ke liye hum prarthna karte hain.....

Anmol kumar said...

sir, itni lambi age ke bavjood aapka safal kadam! Wakai bindas hai...